41 दिन की तपस्या पूरी होने पर हवन पूजन व विशाल भंडारे का आयोजन  – भंडारे में आए साधू महात्माओं को कंबल वितरण किये गये

0
395

शामली,गढीपुख्ता। गुरु गोरक्षनाथ आश्रम ऊन में समाधी बाबा बिशन दास महाराज जी वाले मंदिर में श्री योगी गुरु मेघनाथ के शिष्य योगी मंगलनाथ सुबह की कड़क सर्दी में धुंध की शीतलहर में प्रातः 4 बजे से 6:15 तक रोजाना सवा दो घंटे जलधारा हटयोग तपस्या कर रहे थे। यह 27 नवंबर से शुरू हो हुई थी। जो शनिवार को 41 दिन पुर्ण हुई। जिसमें 108 मिट्टी के मटके (घडे़) से जल प्रवाह में बैठकर हटयोग तपस्या करते थे।

गुरु योगी बाबा मेघनाथ के शिष्य योगी मंगलनाथ ने बताया यह तपस्या 41 दिनों में सम्पूर्ण हुई है। जो विश्व शांति और जन कल्याण के लिए की गई। इसके बाद शनिवार को तपस्या संपूर्ण होने पर हवन पूजन के बाद विशाल भंडारे का आयोजन किया गया। जिसमें श्रद्धालु ने प्रसाद ग्रहण किया । जिसमें कई जिलों एवं राज्यों के साधु संत पधारें। गुरु मेघनाथ द्वारा उनके सम्मान स्वरूप कंबल वितरण किये गये। योगी बाबा कमलनाथ ने कहा कि सिद्ध बाबा बिशन दास जी की समाधि पर जो कोई श्रद्धालु अपनी मनोकामना सच्चे दिल से मांगता है उसकी हर मनोकामना पूर्ण होती है। बाबा मेघनाथ ने कहा महात्माओं को जनकल्याण के लिए तपस्या करनी चाहिएं। मनुष्यों को सतकर्म करने चाहिएं। घर पर माता पिता एवं घर पर आये साधू-संतों का आदर सम्मान करना चाहिए। मनुष्यों को गल्त संगत व नशें से दूर रहना चाहिये ।अपने बच्चो को उत्तम शिक्षा देनी चाहिये। उनको अच्छे संस्कार देने चाहिये। दान करने से मनुष्य का धन बढ़ता है।

इस दौरान तपस्या में सहयोग करने वालों में योगी बाबा कमलनाथ, योगी कालू नाथ, योगी छोटू नाथ, योगी मंजूनाथ ,योगी अजयनाथ करनाल, योगी बालकनाथ हडौली , प्रदीप चौधरी अध्यक्ष, मोहन कर्मवीर सभासद अनुकूल गिरी,अनुज कश्यप, रामबीर,जसवीर चैयरमैन आदि भक्तगण मौजूद रहे।

रिर्पोट : गढ़ीपुख्ता से सचिन तोमर के साथ सिद्धार्थ भारद्वाज प्रभारी जनपद शामली उ०प्र०।