एसटीएफ की साइबर इकाई ने किया शातिर को गिरफ्तार

0
149

बिजली के बिल जमा करने के नाम पर की थी दस लाख रूपए की धोखाधड़ी        

देहरादून। एसटीएफ की साइबर इकाई ने बिजली के बिल जमा करने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले एक शातिर को गिरफ्तार किया है। आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसके आपराधिक इतिहास की जानकारी जुटाई जा रही है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ आयुष अग्रवाल ने बताया कि एसटीएफ के अधीन साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन ने बिजली का बिल जमा कराने के नाम पर 10 लाख की धोखाधडी करने वाले गिरोह के एक सदस्य को राजस्थान से गिरफ्तार किया गया है। उन्होने यह भी जानकारी दी की इस आरोपी की गिरफ्तारी के साथ क्रैडिट कार्ड के माध्यम से धोखाधड़ी करने के तरीके का पर्दाफाश हुआ है तथा भविष्य में ऐसे गिरोह पर गैंगस्टर की कार्यवाही भी अमल में लायी जा सकती है। बता दें कि वर्तमान में साइबर अपराधी आम जनता की गाढ़ी कमाई हड़पने के लिए अपराध के नए-नए तरीके अपनाकर धोखाधड़ी कर रहे है। इसी परिपेक्ष्य में ठगों की ओर से बिजली का बिल जमा के नाम पर लिंक भेज कर लाखों रुपए की धोखाधडी की जा रही है। इसी क्रम में एक प्रकरण साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन को प्राप्त हुआ, जिसमें शिकायतकर्ता रविकांत उपाध्याय के साथ अज्ञात आरोपियों ने स्वंय को बिजली विभाग से बताते हुए शिकायतकर्ता से विभिन्न नंबरों से संपर्क कर बिजली का बिल जमा न होने की बात कहकर शिकायतकर्ता से क्विक सपोर्ट एप डाउनलोड करवाकर लिंक भेजकर निजि जानकारी प्राप्त कर खाते से  लगभग दस लाख रुपये की धोखाधड़ी की। टीम को पता चला कि धोखाधडी से प्राप्त की गई धनराशि फर्जी आईडी पर खोले गए बैंक खातों में प्राप्त की गई थी। खातों के खाताधारक की जानकारी प्राप्त की गयी व खाताधारक के संबंध में साक्ष्य एकत्रित करते हुए आरोपी प्रभु राम खीचड़ निवासी ग्राम छाजूसर थाना रतननगर जनपद चुरु राजस्थान को गिरफ्तार कर लिया।