मतदाता सूची ने नाम हटाने को लेकर हंगामा

0
84

मसूरी 16 मई । 1,856 मतदाताओं को शिकायतकर्ता यश गुप्ता द्वारा दी गई चुनौती मामले में हाईकोर्ट के निर्देश के बाद मसूरी नगर पालिका में एसडीएम ने सुनवाई की। इस दौरान एकत्रित हुए सैकड़ों लोगों ने मतदाता सूची से उनके नाम हटाने को लेकर की जा रही कार्रवाई का विरोध किया और शिकायतकर्ता यश गुप्ता के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। पुलिस बल के माध्यम से हंगामा कर रहे लोगों को बोर्ड रूम से बाहर किया गया और सभी से शांति बनाए रखने की अपील की गई।
प्रदर्शन कर रहे लोगों ने कहा कि शिकायतकर्ता यश गुप्ता राजनीति से प्रेरित होकर उनके नाम को नगर पालिका की मतदाता सूची में चुनौती दे रहे हैं, जो कि दुभाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि अगर उनके नाम मसूरी नगर पालिका की मतदाता सूची से हटाए जाते हैं, तो उग्र आंदोलन किया जाएगा और उच्च न्यायालय का दरवाजा भी खटखटाया जाएगा। मसूरी नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष मनमोहन सिंह माल, कांग्रेस नेता मेघ सिंह कंडारी और सामाजिक कार्यकर्ता गोविंद नौटियाल ने कहा कि आज मसूरी में अराजकता का माहौल पैदा हो रहा है। कुछ लोग अपने राजनीतिक फायदे के लिए एक समुदाय को निशाना बनाकर उनके उनके नाम नगर पालिका की मतदाता सूची से हटाना चाहते हैं। ऐसे लोगों को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर उनके नाम मसूरी नगर पालिका के मतदाता सूची से हटाए जाते हैं , तो वह मसूरी में यमुना, अलगाड और कोल्टी के पेयजल पंप को बंद करेंगे।
एसडीएम डॉ. दीपक सैनी ने बताया कि मसूरी नगर पालिका की दिसंबर में मतदाता सूची प्रकाशित हुई थी। जिस पर शिकायतकर्ता यश गुप्ता द्वारा 1,856 मतदाताओं को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है. जिसकी सुनवाई करते हुए सभी मतदाताओं को न्यायालय में मौजूद होकर अपना पक्ष और साक्ष्य प्रस्तुत करने के लिये नोटिस दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि जिन लोगों द्वारा अपने साक्ष्य प्रस्तुत कर दिए जाएंगे। उनके नाम मतदाता सूची से नहीं हटाए जाएंगे।
डॉ. दीपक सैनी ने बताया कि जिन लोगों के नाम अन्य निकाय या पंचायत क्षेत्र की मतदाता सूची में दर्ज हैं, वह 10 दिन के भीतर उस मतदाता सूची से अपना नाम कटवा कर मसूरी पालिका की मतदाता सूची में दर्ज करा सकते हैं। उन्होंने कहा कि मतदाताओं द्वारा दी गई आपत्ति की प्रक्रिया 15 मई से लेकर 20 मई तक चलेगी। सुनवाई के दौरान कई ऐसे मतदाता भी पाए गए हैं, जिनको बेवजह शिकायतकर्ता द्वारा चुनौती दी गई है, जिसको लेकर भी शिकायतकर्ता के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।