मॉनसून सत्र के तीसरे दिन की कार्यवाही -विपक्ष ने महंगाई व भ्रष्टाचार पर सरकार को घेरा

0
181

किसानों पर हो रहे अत्याचार पर विपक्ष हुआ मुखर

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा के मॉनसून सत्र के आज तीसरे दिन सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले विपक्षी कांग्रेस के विधायकों ने सदन के बाहर अपने-अपने क्षेत्र से भ्रष्टाचार, महंगाई और किसानों पर हो रहे कथित अत्याचार के मुद्दों को लेकर के प्रदर्शन किया। सदन के बाहर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। कांग्रेस के विधायकों ने कहा कि सरकार पूरी तरह से जनता के सवालों से बच रही है। नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने कहा कि आज वह सदन के भीतर महंगाई और भ्रष्टाचार के मुद्दे को लेकर एकजुट होकर आवाज उठाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता पूरी तरह से त्रस्त है। लेकिन सरकार है कि उन्हें जनता से कुछ लेना देना नहीं है।
इसके अलावा कांग्रेस के हल्द्वानी से विधायक सुमित हृदयेश भी उधमसिंह नगर के किसानों की आवाज उठाने विधानसभा में पहुंचे। उन्होंने अपने हाथ में पत्रिकाओं को प्रदर्शित करते हुए कहा कि सरकार आज गरीब आम लोगों और किसानों के खिलाफ काम कर रही है। पूंजीपतियों के साथ मिलकर केवल अपने एजेंडे के तहत काम कर रही है।डवदेववद ेमेेपवद कंल विनतसुमित हृदयेश ने किसानों का मुद्दा उठायासुमित हृदयेश ने कहा कि उधमसिंह नगर में किसानों की बुरी स्थिति है। यहां पर किसानों को उनकी फसल का उचित दाम नहीं मिल पा रहा है। साथ ही उन्होंने हल्द्वानी में तमाम योजनाओं को लेकर सरकार से सवाल पूछा। उन्होंने हल्द्वानी शहर में लगातार फैल रही अव्यवस्थाओं को लेकर सरकार से सवाल पूछा।
खटीमा से विधायक भुवन कापड़ी ने कहा कि उनके द्वारा सदन में प्रदेश के युवा बेरोजगारों का संवेदनशील विषय उठाया गया। लेकिन सरकार इस पर बिल्कुल भी गंभीर नहीं है। उन्होंने बताया कि किस तरह से प्रदेश में आउटसोर्सिंग एजेंसियों का खेल चल रहा है और लगातार प्रदेश के युवाओं को भगाया जा रहा है। उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पेड़ काटने की सीबीआई जांच होती है, लेकिन युवाओं की नौकरियों को लूटा जाता है, उसको लेकर सीबीआई जांच नहीं की जाती है। साथ ही उन्होंने कहा कि आज भी वह सदन के भीतर भ्रष्टाचार और महंगाई के मुद्दे को लेकर के अपनी आवाज उठाएंगे।