निर्माणाधीन पुल ढहा, दो मजदूरों की मौत

0
186

आठ घायलों में दो की हालत गंभीर

निर्माणादायी कंपनी के खिलाफ जांच के आदेश

रूद्रप्रयाग। बुधवार सुबह बदरीनाथ हाईवे पर नरकोटा के पास निर्माणाधीन पुल की शटरिंग गिरने से बड़ा हादसा हो गया। साइड पर काम कर रहे 10 मजदूर शटरिंग गिरने से दब गए। जिनमें से आठ को रेस्क्यू कर जिंदा बाहर निकाला गया जबकि दो मजदूरों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। इस दुर्घटना में आठ मजदूर घायल हुए हैं जिनमें से दो की स्थिति गंभीर बनी हुई है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार यह दुर्घटना आज सुबह उस वक्त घटित हुई जब यहंा पुल के निर्माण का कार्य चल रहा था। इस दुर्घटना के दौरान लोहे की शटरिंग गिर जाने से यहां काम कर रहे 10 मजदूर दब गए। दुर्घटना की सूचना मिलने पर एसडीआरएफ की टीम और जिला प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे। बाहरी हिस्से में दबे 8 मजदूरों को आसानी से बाहर निकाल लिया गया लेकिन अंदर दबे दो मजदूरों को बाहर निकालने के लिए कटर मशीन का इस्तेमाल करना पड़ा। कई घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद सभी लोगों को बाहर तो निकाल लिया गया लेकिन इस बीच 2 लोगों की मौत हो गई।
बचाव राहत कार्य में जुटे लोगों द्वारा सभी घायलों को जिला अस्पताल रूद्रप्रयाग लाया गया। अस्पताल के डॉक्टर राजीव पाल द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर 10 घायलों को यहां लाया गया था। जिनमें से 2 लोग पहले ही दम तोड़ चुके थे। दुर्घटना में घायल 8 में से दो मजदूरों की हालत नाजुक बनी हुई है। जिसे देखते हुए उन्हें हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है। जबकि छह अन्य घायलों का इलाज जिला अस्पताल में ही किया जा रहा है।
जिलाधिकारी रुद्रप्रयाग द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर ऑल वेदर रोड निर्माण के तहत कोटा के पास इस पुल का निर्माण किया जा रहा है। इस हादसे के पीछे प्रथम दृष्टया निर्माणदायी कंपनी की लापरवाही की बात सामने आई है। जिलाधिकारी का कहना है कि कंपनी द्वारा मजदूरों की सुरक्षा के इंतजाम मानकों के अनुसार नहीं किए गए हैं। इस घटना की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने हादसे पर दुख व्यक्त करते हुए घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य की कामना की है। उन्होंने कहा कि दुर्घटना के कारणों की जांच कराई जाएगी।