सीबीएसई 12वीं में लड़कियों ने मारी बाजी,केंद्रीय विद्यालय की अंजना मित्तल ने दिखाई प्रतिभा,लिए 97 प्रतिशत अंक

0
2097

देहरादून। सीबीएसई 12वीं रिजल्ट घोषित कर दिया गया है। इससे पहले सीबीएसई ने कक्षा 10 और कक्षा 12 के रोल नंबर जारी कर दिये थे। बोर्ड ने सीबीएसई 10वीं और सीबीएसई 12वीं रोल नंबर को ऑफिशियल वेबसाइट पर जारी किये हैं।
लड़कियों का लड़कों से बेहतर प्रदर्शन देखने को मिला सीबीएसई 12वीं में 99.67 प्रतिशत लड़कियां पास हुई और 99.13 प्रतिशत लड़के पास हुए देश भर में 1296318 छात्र-छात्राएं पास हुए हैं इस बार के 12वीं के पेपर में 99.37 प्रतिशत बच्चे पास हुए हैं। इस परीक्षा में केंद्रीय विद्यालय नंबर एक हाथी बड़कला में पढ़ने वाली होनहार छात्रा अंजना मित्तल ने 97 प्रतिशत अंक लेकर अपनी प्रतिभा को एक बार फिर उजागर किया है।
सीबीएसई बोर्ड से सम्बद्ध स्कूलों में एकेडेमिक सेशन 2020-21 के दौरान कक्षा 10 और कक्षा 12 के छात्र-छात्राएं ऑफिशियल वेबसाइट पर उपलब्ध कराये गये लिंक या नीचे दिये गये डायरेक्ट लिंक से अपना सीबीएसई बोर्ड रोल नंबर 2021 देख सकते हैं।
सीबीएसई 10वीं रिजल्ट 2021 31 जुलाई 2021 तक जारी होने की उम्मीद है। बोर्ड ने कहा कि दोनों कक्षाओं के लिए परीक्षा आयोजित नहीं की गई थी। इसलिए बोर्ड की ओर से एडमिट कार्ड जारी नहीं किए गए थे। अब बोर्ड जल्द ही परिणाम जारी कर सकता है। ऐसे में बोर्ड ने छात्रों के रोल नंबर जारी कर दिए हैं। बोर्ड द्वारा रोल नंबर फाइंडर नामक एक ऑनलाइन सुविधा बनाई गई है। जिसकी मदद से छात्र रोल नंबर देख सकते हैं।
इस साल सीबीएसई 12वीं के नतीजे वैकल्पिक तरीके से तैयार किए गए हैं, चूंकि कोविड-19 मामलों में वृद्धि के कारण इस वर्ष बोर्ड परीक्षा आयोजित नहीं की जा सकी, इसलिए बोर्ड ने परिणाम को अंतिम रूप देने के लिए एक वैकल्पिक मूल्यांकन योजना अपनाई जा रही है।
उल्लेखनयी है कि उत्तराखंड बोर्ड 31 जुलाई तक परीक्षाफल घोषित कर देगा। बोर्ड में इन दिनों रिजल्ट जारी करने के लिए तैयारियां शुरू हो गईं हैं। उत्तराखंड विघालयी शिक्षा परिषद की सचिव डॉ. नीता तिवारी ने कहा कि 10वीं और 12वीं का परीक्षा परिणाम तैयार करने का कार्य तेजी से चल रहा है। 31 जुलाई तक रिजल्ट घोषित कर दिया जाएगा। छात्रों के 9वीं, दसवीं और 11वीं के अंकों को देखकर परीक्षाफल तैयार किया जा रहा है। परीक्षाफल से असंतुष्ट छात्र एक महीने के अंदर आवेदन कर सकते हैं।
परिस्थितियां अनुकूल होने पर उनकी परीक्षा कराई जाएगी। इस साल हाईस्कूल में 1 लाख 48 हजार 350 और इंटरमीडिएट में 1 लाख 22 हजार 198 छात्र परीक्षा के लिए पंजीकृत थे। मार्च-अप्रैल में कोविड के बढ़ते मामलों को देखते हुए उत्तराखंड विघालयी परिषद ने परीक्षा रद्द करा दी थी।