प्रसिद्ध फिल्म निर्माता निर्देशक विपुल शाह उत्तराखण्ड में अपनी नयी फिल्म के लिए उत्सुक, लोकेशन रेकी कर रहे

0
143

देहरादून 15 मई। उत्तराखंड की नई फिल्म नीति 2024 को लेकर फिल्म जगत में उत्साह है। बॉलीवुड के सुप्रसिद्ध फिल्म निर्माता निर्देशक उत्तराखंड में अपनी फिल्मों की शूटिंग के लिए आ रहे है। इसी कड़ी में बुधवार को सूचना निदेशालय में उत्तराखण्ड फिल्म विकास परिषद के संयुक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. नितिन उपाध्याय से सुप्रसिद्व फिल्म निर्माता विपुल अमृतलाल शाह और उनके सह निर्माता आशीन शाह ने अपनी आगामी फिल्म को लेकर मुलाकात की। उल्लेखनीय है कि विपुल अमृतलाल शाह फिल्म निर्माता और निर्देशक हैं, जिनकी मुख्य फिल्मों में आँखे, सिंह इज द किंग, नमस्ते लन्दन, नमस्ते इंग्लैंड, द केरल स्टोरी आदि शुमार है। अभी हाल ही में विपुल शाह की ्रमम 5 पर बस्तर फिल्म रिलीज हुई है।
शाह ने कहा कि उत्तराखंड सरकार द्वारा नई फिल्म नीति 2024 लागू की गई है, जोकि फिल्म फ्रेंडली है। नई फिल्म नीति से बॉलीवुड में उत्साह का माहौल है। शाह ने बताया कि वह भी अपनी नई फिल्म की शूटिंग उत्तराखण्ड में करने के इच्छुक है। उनकी टीम अगले 5 दिन तक उत्तराखंड रहकर शूटिंग लोकेशन की रेकी करेगीं। शाह ने नई फिल्म नीति के लिए मुख्यमंत्री पुष्क़र सिंह धामी का भी आभार व्यक्त किया है। शाह ने बताया कि उनकी नई फिल्म में मुख्य कलाकारों के रूप में सुश्री शैफाली शाह और जयदीप अहलावत से बात की जा रही है। यह फिल्म एक कॉमेडी सस्पेंस फिल्म है और इसका संपूर्ण फिल्मांकन उत्तराखण्ड के देहरादून और मसूरी में किया जाएगा। फिल्म को लेकर विधिवत घोषणा कुछ दिनों में की जाएगी।
उत्तराखण्ड फिल्म विकास परिषद के संयुक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ नितिन उपाध्याय द्वारा नई फिल्म नीति 2024 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की गई। डॉ. उपाध्याय ने बताया कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर फिल्म फ्रेंडली नई फिल्म नीति बनाई गई है। इस फिल्म नीति से देश दुनिया के फिल्म निर्माता और निर्देशक उत्तराखंड की ओर आकर्षित हो रहे हैं। डॉ. उपाध्याय ने बताया कि राज्य सरकार फिल्म निर्माताओं के लिए उत्तराखंड को एक शूटिंग डेस्टिनेशन बनाने के लिए पूर्ण रूप से प्रतिबद्ध है। अभी हाल ही में अनुपम खेर के बैनर “अनुपम खेर स्टूडियो” की फिल्म “तन्वी द ग्रेट” का शूट भी लैंसडौन में कैम्पलीट हुआ है। जिसकी शूटिंग यहाँ 36 दिनों तक कि गई है। एक और प्रसिद्ध निर्माता निर्देशक राज शांडिल्य निर्देशित फिल्म “विकी विद्या का वो वाला वीडियो” की शूटिंग भी मार्च के महीने में कम्पलीट हुई है जिसमें मुख्य भूमिकाओं में राजकुमार राव और तृप्ति डिमरी हैं, यह एक कॉमेडी फिल्म है। इसके पहले काजोल और कृति सेनन अभिनीत “दो पत्ती” का भी शूटिंग दिसम्बर माह में समाप्त हुआ था, जिसका टीजर भी नेटफ्लिक्स पर आ चुका है।
डॉ उपाध्याय ने बताया कि जनवरी 2024 से अभी तक उत्तराखण्ड फिल्म विकास परिषद के ऑनलाइन सिंगल विंडो सिस्टम के द्वारा मात्र 4 महीनों में 100 से भी अधिक शूटिंग अनुमतियां प्रदान की गई है, जो कि काफी उत्साहजनक हैं। फिल्म अनुमतियों को लेकर सभी जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को पत्र भी लिखा जा रहा है। संरक्षित वन क्षेत्र को छोड़कर उत्तराखण्ड सरकार के अधीन आने वाले विभाग फिल्म शूटिंग के लिए कोई शुल्क नहीं लेंगे ऐसा फिल्म पालिसी में प्रावधान है।फिल्म पालिसी में उत्तराखंड के अनछुए शूटिंग डेस्टिनेशन को बढ़ावा देने का भी प्रावधान किया गया है।
उत्तराखण्ड फिल्म नीति 2024 में प्रादेशिक भाषा की फिल्मों के लिए फिल्म प्रोडक्शन पर प्रदेश में हुए व्यय का 50ः तक सब्सिडी या अधिकतम 2 करोड़ तक, और हिन्दी और भारतीय संविधान की 8वीं अनुसूची में आने वाली भाषाओं के लिये फिल्म प्रोडक्शन पर प्रदेश में हुए व्यय का 30ः या अधिकतम 3 करोड़ रुपये तक के अनुदान की व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही सब्सिडी के लिए लघु फिल्म डाक्यूमेंट्री और वेब सीरीज को भी इस नयी नीति में शामिल किया गया है। इस अवसर पर डॉ. उपाध्याय द्वारा फिल्म निर्माता व निर्देशक विपुल शाह को स्मृति चिन्ह के रूप में ब्रह्माकमल की अनुकृति भेंट की गई।