के वि भेल हरिद्वार से जापान तक का सफर : पहले काशिफ अब कनक को प्राप्त स्वर्णिम अवसर

0
750

देहरादून 08 मई। के वि भेल हरिद्वार की,बारहवीं कक्षा की छात्रा,युवा वैज्ञानिक कनक शुक्ला, जिन्होंने 10वीं बोर्ड परीक्षा में 96% अंक हासिल किए थे, को विज्ञान में जापान एशिया यूथ एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत जापान की 7 दिवसीय यात्रा पर जाने का अवसर प्राप्त हो रहा है । छात्रा कनक 16 जून,2024 से 22 जून,2024 तक सकुरा विज्ञान कार्यक्रम में भाग लेंगी। प्राचार्य राजेश कुमार ने छात्रा कनक शुक्ला को बधाई दी तथा उन्होंने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि ‘आज केंद्रीय विद्यालय बीएचईएल के लिए बड़ा गौरव का दिन है। हमारे विद्यार्थी विभिन्न क्षेत्रों में विद्यालय का परचम फहरा रहे हैं और आशा है कि कनक और काशिफ से प्रेरित होकर अन्य विद्यार्थी भी ऐसे कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए तैयारी करेंगे।’प्राचार्य जी के बहुमूल्य निर्देशन में श्रीमती निधि गुप्ता पीजीटी (लेक्चरर) केमिस्ट्री ने गुरु एवं परामर्शदाता के रूप में निरंतर छात्र-छात्राओं को प्रेरित किया परिणामस्वरूप आज छात्रा कनक जापान जाकर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में अपने विद्यालय का नाम रोशन करेंगी।
उपप्राचार्या श्रीमती तरुणा कौर, मुख्याध्यापिका श्रीमती रीता त्यागी एवं शिक्षकवृन्द ने भी‌ छात्रा कनक को बधाई दी तथा उसके उज्ज्वल भविष्य हेतु शुभकामनाएं प्रेषित की। पहले भी सत्र 2023-24 में दिनांक 8जुलाई, 2023 को केंद्रीय विद्यालय बीएचईएल के बारहवीं कक्षा का छात्र युवा वैज्ञानिक मास्टर काशिफ इफ्तिखार खान जापान एशिया यूथ एक्सचेंज प्रोग्राम इन साइंस के तहत जापान के ओसाका नगर गया था।
सकुरा विज्ञान योजना का प्राथमिक उद्देश्य एशियाई देशों के युवा वैज्ञानिकों के बीच सहयोग, विश्वास और संवाद को बढ़ावा देना है, उन्हें नवीनतम विज्ञान एवं तकनीकी क्षेत्र में आदान-प्रदान के लिए एक मंच प्रदान करना है। छात्रा कनक शुक्ला की आकांक्षाएं उड़ान भरती दिख रही हैं, जिससे वह खुशी और आत्मविश्वास से भर गई हैं।
इस पूरे कार्यक्रम के दौरान, प्रतिभागियों को जापानी संस्थानों के संचालन, अनुशासन और नवीन वैज्ञानिक दृष्टिकोण का सूक्ष्मता से अवलोकन करने का अवसर मिलेगा। यह पहल बड़ी संख्या में युवा वैज्ञानिकों का स्वागत करती है, जिससे नेटवर्किंग और सहयोग के अवसर मिलते हैं। जापान और अन्य एशियाई देशों के बीच सांस्कृतिक और मानवीय संबंधों को मजबूत करना सहयोग बढ़ाने से हासिल किया जाएगा। सकुरा विज्ञान कार्यक्रम युवा वैज्ञानिकों को जापान में वैज्ञानिक सीखने और व्यावहारिक अनुभव के लिए एक मूल्यवान मंच प्रदान करता है।