मुख्तार अंसारी की मौत का राज

0
189

लखनऊ। मुख्तार अंसारी की मौत का राज पांच डॉक्टरों के पैनल द्वारा रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज में किए गए पोस्टमार्टम के बाद पुरी तरह साफ हो जाएगा। बिसरा सुरक्षित रख लिया गया है। बिसरा रिपोर्ट दो तीन हफ्ते में आ जाएगी। मुख्तार अंसारी के परिजनों व उसके बेटे उमर अंसारी का कहना है कि ये हार्टअटैक से हुई मौत नहीं है बल्कि एक सुनियोजित षड्यंत्र है। दूसरी ओर पुलिस प्रशासन इसे हार्टअटैक से हुई मौत बता रहा है। वरिष्ठ चिकित्सक डॉ० योगेश कौल का कहना है कि धीमा जहर मिलाकर देने की प्रक्रिया में सालों का समय लगता है। जहर के लक्षण मृतक शरीर में दिखने लगते हैं अगर उसे किसी भी तरह का जहर भले ही वो धीमा हो दिख जाते हैं। इसमें मृतक के नाखून नीले , मसूड़े नीले, आंखें व बदन भी नीला पड़ जाता हैं इस तरह के लक्षण प्रथम दृष्टया ही सामने आ जाते हैं। हार्टअटैक भी दो प्रकार से आता है या तो कोई पुरानी बिमारी हो या दिल में कचरा फंस गया हो जिससे खून की सप्लाई बाधित हो गई हो खून दिल तक नहीं पहुंच पा रहा हो। बिसरा सुरक्षित है। बिसरा रिपोर्ट आने में दो से तीन सप्ताह का समय लग जाता है।‌ बिसरा रिपोर्ट आने के बाद दूध का दूध व पानी का पानी हो जाएगा। पुरी हकीकत सामने आ ही जाएगी। मुख्तार अंसारी के शव को बांदा पुलिस 26 गाड़ियों के काफिले के साथ गाजीपुर के लिए प्रस्थान कर चुकी हैं रात में एक बजे तक काफिला मुख्तार अंसारी का शव लेकर पहुंच जायेगा। कल दस बजे बजे कब्रिस्तान में इनके माता-पिता के पास में ही सपूर्दे खाक किया जाएगा। गाजीपुर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रखी जा रही है। चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात है व पैनी नजर बनाए हुए हैं।

रिर्पोट : सिद्धार्थ भारद्वाज प्रभारी उत्तर प्रदेश।