लुभावनी बचत योजना के माध्यम से लाखों की ठगी के आरोपी को एसटीएफ ने किया गिरफतार

0
56

देहरादून 25 मार्च । वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ आयुष अग्रवाल ने बताया कि कुछ माह पूर्व एक प्रकरण साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन को प्राप्त हुआ जिसमें गढी कैण्ट देहरादून निवासी एक पुरुष शिकायतकर्ता व उसकी महिला मित्र के साथा किसी अज्ञात साईबर ठग द्वारा मोबाइल नम्बर +447878602954 व अन्य व्हाट्सएप नम्बरों से वादी को व्हटसएप के माध्यम से सम्पर्क किया गया एवं स्वयं को मलेशिया से मिस लीसा नाम बताते हुये *https://in create wealth2.com वेबसाईट* पर मुयचल फंड में धनराशि लगाकर अच्छा लाभ कमाने का लालच दिया गया जिसमें वादी से पहले लगभग 10 हजार रुपये की छोटी धनराशि से पेटीएम के माध्यम से पैसे ट्रांसफर करके शुरुआत करायी गयी व उचित रिटर्न देकर भरोसा दिलाया गया व लुभाव में लेकर उनके द्वारा लाखों में इन्वेस्टमेण्ट कराना शुरु किया गया जिसके लिये उनके द्वारा एक ग्राहक हेल्पलाइन नंबर +447859436173 का भी प्रयोग किया गया जिसे बाद में बदलकर +447727421289 कर दिया गया।
इस प्रकार म्यूचुअल फंड की पेशकश में भारतीय बैंकों की इकाई का उपयोग करके प्रतिरूपण का उपयोग किया गया और यहां तक कि पैसे जारी करने के लिए भी, उन्होंने भारतीय बैंकों का उपयोग किया। इसी क्रम में वादी को उक्त हेल्पलाइन के माध्यम से दीपावली अवधि के दौरान क्रेजी ट्रेडिंग में भाग लेने के लिए संदेश मिला और उक्त कथित *मलेशियन महिला मिस लिसा* ने भी इसमें शामिल होने की सलाह दी। तत्पश्चात लाखों रुपया लगाने के बाद भी लाभ का कोई रुपया न मिलने पर एवं ट्रेडिंग के दौरान उक्त साईबर ठगों के द्वारा वादी को लगभग 01 करोड़ 79 लाख रुपये का और भुगतान करने का संदेश प्राप्त होने तथा ऐसा ही संदेश वादी के महिला मित्र को भी प्राप्त होने तथा उनकी निकासी (Withdrawals) भी बन्द कर देने पर पर संदेह हुआ और इस धोखाधडी का पता चला।
इस प्रकार वादी के साथ *94 लाख से अधिक की धोखाधडी हुई है।*इस शिकायत के आधार पर साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन उत्तराखण्ड देहरादून पर *मु0अ0सं0-25/2022,धारा-420 भादवि व 66-डी आईटी एक्ट पंजिकृत किया गया।* अभियोग की विवेचना साईबर थाने में अपर उ नि मुकेशचन्द्र(विवेचक) के सुपुर्द की गयी। जिनके द्वारा अभियोग में साक्ष्य एकत्रित करते हुये अभियोग में मुख्य अभियुक्त 1-मौ0 शरीफ को बैंगलूरु कर्नाटका से तथा अन्य सह अभियुक्तगण 2-वैश्यक उन्निकृष्णन को केरल से एवं 3-युसुफ मिर्जा को महाराष्ट्र से पूर्व में ही गिरफ्तार किया जा चुका है।
पुलिस टीम द्वारा अथक मेहनत एवं प्रयास से तकनीकी विश्लेषण कर साक्ष्य एकत्रित करते हुए उक्त अभियोग में प्रकाश में आये अन्य सह अभियुक्त अमजद खान पुत्र हमीद खान निवासी 960 सुलेमान कम्पाउण्ड एसडीएम रोड Antop Hill नियर शेख मिसरी दरगाह, बडाला ईस्ट मुम्बई, उम्र-44 वर्ष को महाराष्ट्र से गिरफ्तार किया गया। उक्त अभियुक्त के विरुद्ध देश के विभिन्न राज्यों में साईबर अपराध सम्बन्धी दर्जनों शिकायतें दर्ज होना प्रकाश में आया है,व आपराधिक इतिहास है ।
*अपराध का तरीकाः-*
अभियुक्तगण द्वारा वादी मुकदमा के मोबाईल नम्बर पर मलेशिया से व्हाट्सएप पर एक मैसेज कर अच्छा रिटर्न प्राप्त करने के लिए https://in create wealth2.com पर म्यूचुअल फंड में निवेश करने की सलाह दी गयी जिसमें वादी द्वारा पेटीएम के माध्यम से 10,000/- रुपये की राशि के साथ शुरुआत की गयी,अभियुक्त गण द्वारा वादी मुकदमा को लुभाने हेतु भारतीय बैंकों का इस्तेमाल किया गया, जिसके पश्चात धीरे-धीरे जब वादी को उचित रिटर्न मिलना शुरू हुआ तो उनके द्वारा भारतीय बैंकों में पैसा लगाकर अपनी राशि बढ़ाकर लगभग 30 लाख रुपये कर दी, इसी तरह अभियुक्त गण द्वारा वादी के साथ भारतीय बैंकों के माध्यम से लगभग 94 लाख रुपयों की धोखाधड़ी की गयी तथा धोखाधडी से प्राप्त धनराशि को विभिन्न बैक खातो में प्राप्त कर उक्त धनराशि का प्रयोग करते है । अभियुक्तगणो द्वारा उक्त कार्य हेतु फर्जी सिम आईडी कार्ड का प्रयोग कर अपराध कारित किया जाता है ।
*पूर्व से गिरफ्तार अभियुक्तः-*
1- मुहम्मद सरीफ पुत्र सुलेमान निवासी 1-115 मार्केट रोड बड़ा उडिपि कर्नाटका उम्र 40 वर्ष।
2- वैश्यक उनीकृष्णन् पुत्र उनीकृष्णन् निवासी – ओलेसरी हाऊस पल्लथ रोड, कोडूगंलूर पुलुट त्रिशूर, केरला, उम्र – 34 वर्ष।
3-यूसुफ मिर्जा खान पुत्र मिर्जा बोला खान निवासी रूम नं0 141, साल्ड पैन रोड, बिहाईंड संगम नगर पुलिस स्टेशन, हिन्दुस्तान नगर, वडाला ईस्ट मुम्बई सिटी महाराष्ट्र, उम्र 46 वर्ष।
*गिरफ्तार अभियुक्तः-*
1- अमजद खान पुत्र हमीद खान निवासी 960 सुलेमान कम्पाउण्ड एसडीएम रोड Antop Hill नियर शेख मिसरी दरगाहा बडाला ईस्ट मुम्बई, उम्र – 44 वर्ष, महाराष्ट्र
*बरामदगीः-*
1- एक मोबाइल फोन Samsung
2-एक फ्लैक्सी बोर्ड कार्ड
*पुलिस टीमः-*
1- अपर उ0नि0 मुकेश चन्द्र ( विवेचक)
2- उ0नि0 आशीष गुसाँई
3- कॉन्स0 नितिन रमोला
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ उत्तराखण्ड आयुष अग्रवाल द्वारा जनता से अपील की है कि वे किसी भी प्रकार के लोक लुभावने अवसरो/फर्जी साइट/धनराशि दोगुना करने व टिकट बुक करने वाले अंनजान अवसरो के प्रलोभन में न आयें । किसी भी प्रकार के ऑनलाईन टिकट को बुक कराने से पूर्व उक्त साईट का पूर्ण वैरीफिकेशन स्थानीय बैंक, सम्बन्धित कम्पनी आदि से भलीं भांति इसकी जांच पड़ताल अवश्य करा लें तथा गूगल से किसी भी कस्टमर केयर नम्बर सर्च न करें। कोई भी शक होने पर तत्काल निकटतम पुलिस स्टेशन या साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन को सम्पर्क करें ।वित्तीय साईबर अपराध घटित होने पर तुरन्त 1930 नम्बर पर सम्पर्क करें ।