कामरेड रमेश चंद पांडे पंच तत्वों में विलीन

0
107

ज्येष्ठ पुत्र शिवेशवर दत्त पांडे ने चिता को मुखाग्नि दी

रुड़की 15जनवरी । संघर्ष के प्रतीक कामरेड रमेश चंद पांडे का आज कनखल स्थित श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार किया गया उनके बड़े पुत्र शिवेशवर दत्त पांडे ने चिता को मुखाग्निक दी
कामरेड रमेश चंद पांडे को आज गमगीन जनसमूह ने अंतिम विदाई दी पिछले काफी दिनों से बीमार चल रहे रमेश पांडे ने कल आरोग्य अस्पताल में अंतिम सांस ली थी जिनका आज धार्मिक विधि विधान के अनुसार अंतिम संस्कार किया गया।
स्वर्गीय रमेश चंद पांडे जी की चिता को जैसे ही उनके ज्येष्ठ पुत्र शिवेशवर दत्त पांडे ने मुखाग्नि दी तो उपस्थित जन समूह के आंसू छलक आये और उन्होंने भारी गमगीन माहौल में अपने प्रिय जुझारू कामरेड रमेश चंद पांडे को अंतिम विदाई दी
संघर्ष के प्रतीक रमेश चंद्र पांडे नार्दन रेलवे मेंस यूनियन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रहे तथा दो बार लक्सर रेलवे जंक्शन के स्टेशन अधीक्षक का दायित्व निभाया साथ ही आसपास के रेलवे स्टेशनों पर भी उनकी तैनाती रही
लक्सर नॉर्दर्न रेलवे मेंस यूनियन के ब्रांच सेक्रेटरी रहते हुए श्री पांडे ने मजदूरों की लड़ाई के साथ-साथ लक्सर क्षेत्र में किसान संघर्ष में भी किसानों का साथ दिया स्वर्गीय श्री पांडे ने न सिर्फ रेल विभाग अपितु विभाग से बाहर भी अन्य मजदूर संगठनों को साथ मिलाकर संयुक्त संघर्ष समिति का निर्माण भी किया था
उन्होंने कर्मचारी यूनियनों से संबंधित मजदूरों के अतिरिक्त भी खेतीहर मजदूरो के साथ-साथ दुकान और अन्य प्रतिष्ठानों में काम करने वाले मजदूरों के हितों की लड़ाई भी लड़ी।
सन 1974 में रेलवे हड़ताल के बाद जब उन्हें सेवाओं से बाहर कर दिया गया था उस समय भी श्री पांडे ने हार नहीं मानी और उन्होंने ठेले पर सब्जी बेचकर अपने परिवार का पालन किया लेकिन मजदूरों के हितों के खिलाफ समझौता नहीं किया