सोमवार से प्रस्तावित सेमेस्टर परीक्षाओं के विरोध में धरना

0
183

नैनीताल 19 नवंबर । कुमाऊं विवि के छात्र नेताओं ने विवि की सोमवार से प्रस्तावित एनईपी एवं विषम सेमेस्टर की परीक्षाओं के विरोध में धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है। इस दौरान कु वि वि छात्र महासंघ एवं छात्रसंघ पदाधिकारियों ने विवि के मुख्य गेट पर ताला जड़ कर अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया। गुस्साए छात्रों ने कहा कि अबतक न तो प्रवेश पूरे हुए हैं और न ही आंतरिक परीक्षाएं कराई जा सकी हैं। ऐसे में परीक्षा कार्यक्रम तय कर दिया गया। इसके विरोध में छात्रों ने विवि प्रशासन एवं शासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रोष व्यक्त किया।
दरअसल कुमाऊं विवि की ओर से नई शिक्षा नीति के तहत प्रथम सेमेस्टर एवं विषम सेमेस्टर की परीक्षाएं 20 नवंबर से प्रस्तावित की गई हैं। जोकि 12 दिसंबर तक चलेंगी। छात्र नेताओं ने परीक्षा कार्यक्रम के विरोध में पूर्व में ही परीक्षा नियंत्रक समेत कुलपति से भेंट की। लेकिन यह कार्यक्रम शासन स्तर से तय किए जाने की बात कहते हुए विवि प्रशासन ने पल्ला झाड़ लिया। कार्यक्रम में संशोधन नहीं होने पर शनिवार को कुविवि छात्र महासंघ के अध्यक्ष पीयूष जोशी एवं डीएसबी परिसर छात्रसंघ के अध्यक्ष उत्कर्ष बिष्ट के नेतृत्व में सभी कॉलेजों के पदाधिकारी मुख्यालय में पहुंचे। इस दौरान छात्रों ने विवि के मुख्य गेट पर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया।
उन्होंने कहा कि विवि में पहले छात्रसंघ चुनाव एवं इसके बाद 16 नवंबर तक दीपावली का अवकाश घोषित किया गया।
इसके बाद तत्काल प्रभाव से परीक्षाएं तय कर दी गई। कहा कि अभी आंतरिक परीक्षाएं भी नहीं हो सकी हैं। साथ ही प्रथम सेमेस्टर में प्रवेश प्रक्रिया जारी है। ऐसे में छात्र परीक्षा में कैसे शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि विवि प्रशासन एवं शासन को परीक्षाओं की तिथि में बदलाव करते हुए पहली दिसंबर से परीक्षाएं आयोजित करनी चाहिए।
इसी मांग को लेकर छात्रों ने यहां अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस बीच मुख्य गेट पर ताला लगाने से कर्मचारी मुख्यालय में ही कैद हो गए। छात्रों ने चेतावनी दी हैए कि यदि उनकी मांग पर अमल नहीं किया गया तो वह भूख हड़ताल करेंगे। प्रदर्शन करने वालों में छात्र महासंघ के अध्यक्ष पीयूष जोशी, उपसचिव सूर्य कमल, छात्रसंघ अध्यक्ष डीएसबी उत्कर्ष बिष्ट, सचिव हिमांशु मेहरा, उपाध्यक्ष प्रखर श्रीवास्तव, छात्रा उपाध्यक्ष हेमा रैखोला आदि शामिल रहे।