यमुना में चल रहा रेत के अवैध खनन का खेल, पुलिस की नाक के नीचे यमुना नदी का सीना कुरेद रहे माफिया

0
218

👉यमुना नदी में रेत खनन रोकने के सारे प्रयास विफल साबित हो रहे हैं.

👉एनजीटी, सरकार, पुलिस को ठेंगा दिखाते हुए खनन माफिया दिन रात मशीन से नदी का सीना चीरकर रेत खनन कर रहे हैं. जिसे रोकने के लिए अब स्थानीय लोग आगे आये हैं.

रेत के अवैध खनन का खेल

नईदिल्ली। राजधानी दिल्ली में यमुना नदी में रेत खनन रोकने के सारे प्रयास विफल साबित हो रहे हैं। एनजीटी, सरकार, पुलिस को ठेंगा दिखाते हुए खनन माफिया रात में नदी का सीना चीरकर रेत खनन कर रहे हैं। वज़ीराबाद थाना इलाके के जगतपुर यमुना किनारे सटे इलाके में रेत माफिया अपने लाभ के लिए प्राकृतिक संसाधन का दोहन कर रहे हैं। लेकिन नाक के नीचे धड़़ल्ले से चल रहे इस खेल को पुलिस-प्रशासन रोक नहीं पा रहा है. जिसे लेकर अब स्थानीय लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है. आक्रोशित लोगों ने अवैध रेत खनन को रोकने के लिए विरोध प्रदर्शन किया.
रात में चलता है अवैध खनन का कालाखेल

पुलिस कार्रवाई के नाम पर कभी-कभार रेत से भरे दो-चार ट्रक पकड़़कर अपनी कार्रवाई की खानापूर्ति कर लेती है, लेकिन इस धंधे पर पूरी तरह से रोक नहीं लगा पा रही है। वजीराबाद थाना क्षेत्र के जगतपुर में यमुना किनारे इन दिनों अवैध खनन तेजी से चल रहा है। रात में मशीनों की मदद से खनन शुरू होता है। इस इलाके से हर रात रेत भरे ट्रक, डंपर, ट्राली आदि को गुजरते देखा जा सकता है। लोग बताते हैं कि पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी सब कुछ जानते हुए आंखें बंद किए हैं।

यमुना नदी का सीना कुरेद रहे माफिया

यहां यमुना नदी में दूर तक अवैध खनन के निशान इस बात की गवाही दे रहे हैं कि यहां से करोड़ों का रेत खनन माफिया चोरी कर चुका है. यहां खनन माफिया सरेआम यमुना नदी का सीना कुरेद रहे हैं. लोगों की शिकायत है कि नदी से रेत खोदने के कारण गहरे गड्ढे बन गया हैं जिससे नदीं में नहाने वाले हादसे का शिकार हो रहे हैं. यही नहीं यमुना बांध पर भारी वाहनों का दिन रात आना जाना लगा रहता है. जिससे सड़क धंस गई है और कई लोग यहां हादसे का शिकार होकर अपनी जान गवां चूके हैं।

समाधान नहीं होने पर उग्र आंदोलन करने की चेतावनी

अवैध खनन के कारण नदी किनारे लगी फसल भी बर्बाद हो रही है. परेशान लोगों ने इसे रोकने का फैसला लिया और नदी किनारे खनन कर रहे एक डंपर को जब्त कर लिया. मौजूद लोगों ने इसकी लिखित शिकायत DM ,SDM, विधायक संजीव झा ओर निगम पार्षद को की है. उनका कहना है कि जल्द समाधान नहीं मिलने पर उग्र आंदोलन करेंगे

रिर्पोट : सिद्धार्थ भारद्वाज प्रभारी नई दिल्ली।