नन्द घर आनंद भयो में झूम उठे लोग आचार्य ममगांई की कथा कृष्ण जन्म लीला में

0
584

*भागवत भाग्य बदलने वाला ग्रंथ*

देहरादून 06 जून। जहां भागवत महापुराण का वाचन पारायण होता वही सारे सुख आ जाते हैं। कृष्ण जन्म लीला में सुन्दर झांकी दिखाई गई। वासु देव के सिर पर टोकरी में श्रीकृष्ण के बाल स्वरूप के दर्शन पानें के लिए, पैर छूने के लिए श्रद्धालु लालायित हो रहे थे।
वहीं माखन मिश्री का प्रसाद वितरण किया गया। नौटियाल बंधुओ के निवास ऋषि विहार निकट सीमा द्वार मे श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन किया गया जिसमें लोग दूर से आकर कथा का आनंद ले रहे हैं।वहीं ज्योतिष्पीठ बद्रिकाश्रम व्यासपीठालंकृत आचार्य शिवप्रसाद ममगांई पूर्व राज्य मंत्री जी नें कहा कि आनंद देनें से चेतना का विस्तार होता है, और जब चेतना का विस्तार होता है तो आपका परमात्मा से आनंद लेने का आयतन बढ़ जाता है।जितनी बड़ी आत्मा आपके पास होगी उतनी ही परमात्मा की वर्षा आपके ऊपर हो सकती है, छोटी आत्मा है छोटा सा पात्र है तो उतनी ही वर्षा होगी आत्मा बड़ी होगी आनन्द भी बड़ा होगा जिस दिन किसी के पास ब्रह्मांड जैसी आत्मा होगी तो ब्रह्मांड का सारा आनंद उस पर बरस पड़ेगा जो प्रेमी अपने प्रियतम भगवान के चरण कमलों का अनन्य भाव से दूसरी भावनाओं व्रतियों व प्रवत्तियों को छोड़कर भजन करता है उससे पहली बात तो यह है कि पाप कर्म होते ही नही परन्तु यदि कभी किसी से यह हो भी जाये तो परमपुरुष भगवान श्री हरि उनके ह्रदय में बैठकर वह सारा पाप नष्ट कर देते हैं और उसके ह्रदय को शुद्ध कर देते हैं शुद्ध सत्व का नाम वसुदेव और देवमई पवित्र बुद्धि का नाम हि देवकी है इन दोनो का संयोग होने पर हि प्रब्रह्म का प्राकट्य होता है।
आज इस अवसर पर मुख्य रूप से डॉक्टर राजाराम नौटियाल,डॉक्टर सुभाष नौटियाल, डॉक्टर हरिराम नौटियाल जयवर्धन चंद्रमोली आलोक कोविद सुमित शर्मा श्रेयस राजीव सुन्द्रियाल अनसुइया प्रसाद काला कमांडेंट रावत जी डॉक्टर दिनेश नौटियाल राकेश बलूनी आनंद चमोली उर्मिला शिवानी रंजना नंदिनी नेहा रीना नौटियाल कथावाचक डाक्टर नन्दीश्वर महाराज डाक्टर सर्वेश्वररी चन्दोला डाक्टर शशि पंत डाक्टर विनय पंत जानकी डोभाल सुमन काला डाक्टर दिनेश काला श्री वर्धन सुप्रिया रिद्धि सुंदरियाल माधुरी भट्ट भावना जोशी नीलम काला सरोजनी नौटियाल जानकी डोभाल अचला नौटियाल उपेंद्र भट्ट आदि भक्त गण उपस्थित रहे।