सीआईएमएस कॉलेज और स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त तत्वावधान में विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर एक दिवसीय कार्यशाला का शुभारंभ

0
51

तम्बाकू और सिगरेट ही नशे के आगोस में जाने की प्रथम सीढ़ी- एडवोकेट ललित जोशी।

युवकों में बढ़ते नशे की प्रवर्ती समाज और देश के लिए घातक- ललित जोशी।

देहरादून 31 मई। कम्बाइंड इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च कुंआवाला देहरादून में मानवाधिकार संरक्षण एवं भ्रष्टाचार निवारक समिति एवं ज़िला तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ देहरादून व सीआईएमएस कॉलेज के संयुक्त तत्वावधान में विश्व तंबाकू निषेध दिवस के अवसर पर नशे के खिलाफ युवाओं को जागरूक करने के उद्देश्य से एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में विभिन्न विद्वानों ने युवा पीढ़ी को तम्बाकू उत्पाद बेचने वाली कंपनियों की विपणन रणनीति से बचाने तथा जागरूक करने के लिए अपने विचार रखे।
कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि पर्यावरणविद पद्मश्री कल्याण सिंह ने द्वीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में मुख्य शिक्षा अधिकारी देहरादून डॉ. प्रदीप रावत, अति विशिष्ट अतिथि के रूप में मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी देहरादून डॉ. संजय जैन, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ पेट्रोलियम के निदेशक डॉ. हरेंद्र बिष्ट, अपर मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी एन.एच.एम. देहरादून डॉ. निधि रावत, साइकोलॉजिस्ट डॉ. अनुराधा, यूनिटी कॉलेज ऑफ ला रुद्रप्रयाग के चेयरमैन नितिन शर्मा, पूर्व निदेशक माध्यमिक शिक्षा पुष्पा मानस, अपर निदेशक माध्यमिक शिक्षा आशा पैन्यूली, एडवोकेट के.पी. काला, पूर्व राज्यमंत्री डॉ.आशुतोष किमोठी सहित अनेक समाज सेवी उपस्थित रहे।
कार्यक्रम में संस्थान के चेयरमैन एडवोकेट ललित मोहन जोशी ने सभी अतिथियों का स्वागत किया और संस्थान में इस तरह का कार्यक्रम आयोजित करने के लिए सभी का धन्यवाद किया। इस दौरान ललित जोशी द्वारा नशा उन्मूलन को लेकर किए गए कार्यों पर एक लघु फिल्म को भी प्रदर्शित किया गया।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि पर्यावरणविद पद्मश्री कल्याण सिंह ने नशे के खिलाफ इस तरह के कार्यक्रम आयोजित करने के लिए मानवाधिकार संरक्षण एवं भ्रष्टाचार निवारक समिति एवं ज़िला तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ देहरादून को बधाई दी। उन्होंने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि बाजार नशीले पदार्थों को बेचने हेतु हमारे युवाओं को आकर्षित कर रहा हैं, हमें अपने युवाओं को इससे सतर्क करने की जरूरत है। नशे के आगोश में आकर हमारा युवा कमजोर होता है, तो हमारा देश कमजोर हो रहा है, जिसका सीधा फायदा विदेशी ताकतें उठा रही हैं। उन्होंने एडवोकेट ललित मोहन जोशी द्वारा विगत 15 से अधिक वर्षों से नशे के खिलाफ चलाए जा रहे जन-जागरूकता अभियान की सराहना की।
कार्यक्रम में साइकोलॉजिस्ट डॉ. अनुराधा ने अपना प्रस्तुतिकरण देते हुए नशे से होने वाले दुष्प्रभावों पर विस्तार से जानकारी दी। और युवाओं से नशे से दूर रहने की अपनी की।
कार्यक्रम के दौरान और नशा उन्मूलन के क्षेत्र में जन जागरूकता कार्यक्रम चलाने के लिए राजकीय इंटर कॉलेज नकोट के प्रवक्ता डॉ. राजेश उनियाल, पूर्व प्रधानाचार्य डॉ. चिंतामणि सेमवाल, कोर्बा इंटर कॉलेज में इंग्लिश प्रवक्ता सुशील राणा को मानवाधिकार संरक्षण समिति और स्वास्थ्य विभाग एवं शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा संयुक्त रूप से सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम में सीआईएमएस कॉलेज ऑफ नर्सिंग की प्राचार्या डॉ. सुमन वशिष्ठ, प्रधानाचार्य रबीन्द्र कुमार झा, कार्यक्रम संचालिका संचालिका शिवानी बिष्ट, शिक्षक एवं कर्मचारीगण सहित 250 से अधिक छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।