मुख्यमंत्री ने विकसित भारत संकल्प यात्रा के तहत जनपद बागेश्वर की महिला लाभार्थियों से किया संवाद

0
82

*सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं की व्यापक जानकारी आमजन तक पहुंचाने के हो प्रयास-मुख्यमंत्री।*

*मुख्यमंत्री से संवाद के दौरान उत्साहित नजर आई महिला लाभार्थी।*

बागेश्वर 15जनवरी । मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को वर्चुअल माध्यम से विकसित भारत संकल्प यात्रा के तहत जनपद बागेश्वर की महिला लाभार्थियों से संवाद किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जिले की महिला लाभार्थियों से बातचीत कर उनके विचार भी जाने। सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से आच्छादित सभी महिलाओं के द्वारा प्रधानमंत्री तथा मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया गया। लाभार्थियों ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि केंद्र एवं राज्य सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से वे स्वयं तो लाभान्वित हुई ही हैं साथ ही अन्य लोगों की भी स्वरोजगार के प्रति प्रेरित किया है। अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने से महिलाओं की आर्थिक स्थिति में भी सुधार हो रहा है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के कार्यकाल में समाज के हर वर्ग के लोगों को ध्यान में रखकर योजनाएं बनाई गई और उनका लाभ समाज के अंतिम पंक्ति पर खड़े व्यक्ति तक पहुंचाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि विकसित भारत संकल्प यात्रा का मुख्य उद्देश्य यही है कि प्रत्येक पात्र व्यक्ति को योजनाओं का पूरा लाभ मिले। सरकार की योजनाओं की व्यापक जानकारी आमजन तक पहुंचाने के लिये राज्य की सभी ग्राम पंचायतों तक विकसित भारत संकल्प यात्रा चल रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की मातृशक्ति द्वारा स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने की दिशा में सराहनीय कार्य किया जा रहा है। महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा बनाये जा रहे अनेक उत्पादों की मांग बाजार में तेजी से बढ़ रही है। मुख्यमंत्री ने बागेश्वर में उत्पादित की जा रही कीवी का जिक्र करते हुए कहा कि जिले में कीवी का उत्पादन बड़े पैमाने पर किया जाय ताकि बागेश्वर की कीवी का एक अलग ब्रांड बन सके। ताकि देश और दुनिया में यहां की कीवी एवं अन्य उत्पादों को एक अलग पहचान मिल सके।
वर्चुअल संवाद कार्यक्रम में जिले की महिला समूहों के लाभार्थी मुख्यमंत्री से बातचीत करने के लिए काफी उत्साहित नजर आयी। उन्होंने खुलकर मुख्यमंत्री से बात कर अपने समूहों की गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। संवाद कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने सभी महिला समूहों को उत्तरायणी पर्व की भी बधाई एवं शुभकामनाएं दी।
संवाद कार्यक्रम के अवसर पर एनआरएलएम योजना से लाभान्वित पूजा परिहार, ग्राम सेल्टा मोस्टगांव ने बताया कि समूह से जुड़ने से पूर्व वह सामान्य ग्रहणी थी। समूह में जुडने के बाद उन्हें सामाजिक,आर्थिक निर्णय लेने में सुधार हुआ है। अपने आसपास एवं न्याय पंचायत क्षेत्र में 400 से अधिक महिलाओं को समूह में जोड़ा है। तथा 10 से 12 हजार मासिक आय अर्जित कर अपने पति के साथ कंधे से कंधा मिलाकर परिवार की आजीविका संवर्धन में सहयोग कर रही हूं। उद्योग विभाग की लाभार्थी कठायताबाडा निवासी गीता खेतवाल ने बताया कि 4.60 लाख का वित्तीय सहायता प्राप्त कर मैंने रेडीमेट गारमेंट्स का व्यवसाय शुरू किया है, और अच्छी आमदनी अर्जित कर रही हूं। इससे परिवार की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ है। पशुपालन विभाग की लाभार्थी आनंदी देवी ने बताया कि बकरी पालन योजना के तहत (10 बकरी एवं 1 बकरा), बाडा सुधार, पशुधन बीमा योजना का लाभ लेकर बकरी पालन का काम किया है। इसके माध्यम से परिवार की आर्थिक स्थिति बेहतर हुई है। कृषि विभाग की जिनखोला गरूड़ निवासी लाभार्थी मंजू बोरा ने बताया कि अच्छी खेती करने के साथ स्वंय एवं परिवार की आजीविका में वृद्धि हुई है। स्वास्थ विभाग की लाभार्थी डुमलोट गरूड निवासी सुविधा थापा ने बताया कि राष्ट्रीय बाल स्वास्थ कार्यक्रम के तहत उनकी बेटी की नि:शुल्क सर्जरी हुई है, जिससे उनकी आर्थिक बचत हुई है।
जिलाधिकारी अनुराधा पाल ने वर्चुअली संवाद कार्यक्रम में मुख्यमंत्री को बताया कि विकसित भारत संकल्प यात्रा के तहत जनपद बागेश्वर की सभी ग्राम पंचायतें कवर हो चुकी हैं। जनपद की महिला स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा विकसित भारत संकल्प यात्रा के दौरान बढ़-चढ़कर प्रतिभाग किया गया।तथा सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से लोगों को आच्छादित किया गया है। संकल्प यात्रा में समूह की महिलाओं द्वारा स्वयं योजनाओं का लाभ लेते हुए अन्य को भी जागरूक करने का काम किया है। जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में कीवी उत्पादन के क्षेत्र में अच्छा कार्य हो रहा है। इससे किसानों को अच्छी आय प्राप्त हो रही है। इसके अतिरिक्त कीवी के नाम से जीआई टैग कराने का भी प्रयास किया जा रहा है। ताकि यहां के किसानों को आर्थिक रूप से और अधिक से अधिक लाभ मिल सके। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आरसी तिवारी, परियोजना निदेशक शिल्पी पंत, जिला विकास अधिकारी संगीता आर्या, ज्येष्ठ ब्लॉक प्रमुख कपकोट हरीश मेहरा, उद्यान अधिकारी आरके सिंह, कृषि अधिकारी डॉ गीतांजलि बंगारी, पूर्ति अधिकारी मनोज कुमार बर्मन, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ देवेश चौहान, जिला कार्यक्रम अधिकारी अनुलेखा बिष्ट समेत अन्य अधिकारी व लाभार्थी मौजूद थे।