चिकित्सा पद्धति का एक नया केंद्र खोला जाएगा: सोनोवाल

0
216

एनईआईएएफएमआर में 53 करोड़ रुपये का अतिरिक्त निवेश किया जाएगा

देहरादून 02जनवरी। केंद्रीय जहाजरानी,पोत और जलमार्ग और आयुष मंत्री, सर्बानन्दसोणोंवाल और अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री, पेमा खांडू ने आज पूर्वोत्तर आयुर्वेद और लोक चिकित्सा अनुसंधान संस्थान की क्षमता विस्तार के लिए योजनाओं की आधारशिला रखी। एनईआईएएफएमआरमें कुल 53 करोड़ रुपये के निवेश से अतिरिक्त बुनियादी ढांचा विकसित किया जाएगा।
इस अवसर पर केंद्रीय जहाजरानी, पोत और जलमार्ग और आयुष मंत्री सर्बानन्द सोणोंवाल ने कहा किलोक-चिकित्सा में मानव समाज को स्वस्थ रखने की समृद्ध विरासत हजारों वर्षों सेसमाई हुई है। हमारे समाज के बीच बसी हुई यह धरोहर पीढ़ियों से मानव जीवन को समृद्ध करने में हमारी मदद करती आ रही है। मोदी सरकार ने पूर्वोत्तर आयुर्वेद और लोक चिकित्सा अनुसंधान संस्थान में अतिरिक्त बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए निवेश करने की प्रतिबद्धता जताई है। यह निवेश आयुर्वेद और लोक चिकित्सा के क्षेत्र में अपने अनुसंधान और विकास को मजबूत कर अपनी नई क्षमता का निर्माण करेगा। केन्द्रीय मंत्री ने अरुणाचल प्रदेश में सोवा-रिगपा चिकित्सा पद्धति का एक नया केंद्र खोले जाने की घोषणा भी की।
अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि हमें बहुत खुशी है कि अरुणाचल प्रदेश का एक संस्थान- पूर्वोत्तर आयुर्वेद और लोक चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (एनईआईएएफएमआर),पूर्वोत्तर राज्यों की लोक चिकित्सा की समृद्धि विरासत का सदुपयोग करने की दिशा में प्रयास कर रहा है। प्रधानमंत्री मोदी जी के प्रेरणादाई नेतृत्व में संस्थान की क्षमता का विस्तार किया जा रहा है जो न केवल क्षेत्र से पारंपरिक चिकित्सा की मदद करेगा बल्कि अपनी पारंपरिक भौगोलिक पहुंच से अलग हमारी वर्षों पुरानी धरोहर को भविष्य के दस्तावेज के रूप में सुरक्षित रखने का काम करेगा।
एनईआईएएफएमआर की भूमिका के बारे में विस्तार से बताते हुए, केंद्रीय आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व में सरकार आयुर्वेद जैसी पारंपरिक दवाइयों के कायाकल्प की दिशा में काम कर रही है जैसे योग, यूनानी, सिद्ध, होम्योपैथी, सोवा रिगपा और प्राकृतिक चिकित्सा। इस कार्यक्रम में अरुणाचल प्रदेश विधानसभा के स्पीकर पासंग दोरजी भी शामिल हुए। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, महिला एवं बाल विकास तथा जनजातीय कार्य, अरुणाचल प्रदेश सरकार, आलो लिबांग; अरुणाचल पूर्व के सांसद (लोकसभा), तापीर गाओ; 38 पासीघाट पूर्व के विधायक, कलिंग मोयोंग; पासीघाट पश्चिम के विधायक, निनोग एरिंग; अरुणाचल प्रदेश के राज्य सूचना आयुक्त, गुमझम हैदर, अरुणाचल प्रदेश राज्य विश्वविद्यालय के कुलपति, प्रो. टोमो रिबा सहित अन्य व्यक्ति कार्यक्रम में उपस्थित रहे।