योग गुरु डॉ. अनिल जैन ने राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू, से राष्ट्रपति भवन में की शिष्टाचार भेंट।

0
1885

दिल्ली 22अक्टूबर । प्रतिष्ठित योग गुरु डॉ. अनिल जैन ने भारत की राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू, से नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में मुलाकात की।
मुलाकात में डॉ. जैन ने राष्ट्रपति मुर्मू को भगवान कृष्ण का एक मनोरम चित्र भेंट किया। मुलाक़ात के दोरान बातचीत स्वास्थ्य के महत्वपूर्ण विषयों, विशेष रूप से योग और प्राकृतिक चिकित्सा के गहन प्रभाव, साथ ही देश के विकास में आदिवासी समुदायों के उल्लेखनीय योगदान के ऊपर होति रही।
राष्ट्रपति मुर्मू ने प्रकृति संरक्षण में आदिवासी समुदायों की महत्वपूर्ण भूमिका पर जोर देते हुए कहा, “आदिवासी समुदाय जल, जंगल और जमीन के सच्चे संरक्षक हैं। प्राचीन काल से, उन्होंने लोगों को ठीक किया है। आदिवासी लोग ” प्राकृतिक जड़ी-बूटियों का उपयोग करते हैं और प्रकृति के साथ सामंजस्य बनाये रखते हैं।”
डॉ. जैन ने इस अवसर पर अपनी आगामी पुस्तक, “हीलिंग विद नेचर” का परिचय दिया। यह पुस्तक, प्राकृतिक तरीकों से बीमारियों का इलाज करने में व्यक्तियों का मार्गदर्शन करती है। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने डॉ. जैन के नेक मिशन और समाज, विशेषकर वंचितों की सेवा के प्रति उनके समर्पण की सराहना करते हुए, पुस्तक के प्रकाशन के लिए अपनी हार्दिक शुभकामनाएं दीं।
योग और प्राकृतिक चिकित्सा के प्रख्यात विशेषज्ञ डॉ. अनिल जैन ने फलों, सब्जियों, हरी घास और गेहूं घास के माध्यम से कई बीमारियों का इलाज करके कम भाग्यशाली लोगों की पीड़ा को कम करने के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया है। उनके व्यापक शोध और अनुभव से अद्वितीय प्राकृतिक उपचारों का विकास हुआ है। करुणा से प्रेरित होकर, वह दान के प्रति अपनी प्रतिबद्धता का उदाहरण देते हुए, आर्थिक रूप से वंचित लोगों को मुफ्त इलाज प्रदान करते हैं।
एक प्रतिष्ठित योग गुरु के रूप में,डॉ.जैन के पास उपलब्धियों की एक उल्लेखनीय सूची है, जिसमें कई अंतरराष्ट्रीय योग सम्मेलनों में भागीदारी और कैलाश मानसरोवर में 22,000 फीट की ऊंचाई पर 88 से अधिक विभिन्न योगासनों का प्रदर्शन शामिल है। वह विभिन्न सरकारी और सार्वजनिक संगठनों में भी पदों पर हैं और भारत सरकार के भीतर कई महत्वपूर्ण समितियों और बोर्डों में नामांकित सदस्य के रूप में कार्यरत हैं।
योग और प्राकृतिक चिकित्सा के सिद्धांतों के प्रति डॉ. अनिल जैन का अटूट समर्पण अनगिनत व्यक्तियों के जीवन पर गहरा प्रभाव डाल रहा है, जो समग्र कल्याण और मानवता की सेवा की भावना का प्रतीक है।