कांग्रेस कार्यकाल मे मिली शराब और खनन व्यवसायियों को तरजीह : चौहान

0
74

डेनिस की अनिवार्यता और गंगा को नाला बनाने वाले दे रहे उपदेश

देहरादून 13 अक्तूबर। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान ने शराब को लेकर कांग्रेस के आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि कांग्रेस कार्यकाल मे शराब और खनन व्यवसायियों के हितों को देखते हुए नीति बनायी गयी और उन्हे तरजीह मिली।
चौहान ने कांग्रेस को अपनी सरकार के काले इतिहास में झांकने की सलाह दी है । कांग्रेस ने राज्य में शराब नीति के नाम पर डेनिस ब्रांड और खनन नीति के नाम पर पवित्र गंगा नदी को नहर बताने का पाप किया गया । मुख्यमंत्री के सचिव माफियाओं के साथ शराब नीति बनाते कैमरे पर पकड़े गए और प्रशासनिक अधिकारियों पर खनन माफियाओं का हमला आम था ।
चौहान ने पलटवार करते हुए कांग्रेस को याद दिलाया कि किस तरह उनकी सरकार कहा ने शराब नीति को डेनिस नीति बनाते हुए इस एक ब्रांड के सामने पूरी तरह सरेंडर किया था । उन्होंने कहा कि घरों में शराब रखने के लाइसेंस की जिस पुरानी नीति में बदलाव की वे बात कर रहे हैं उसे 6 माह तक विभाग द्वारा जमीनी स्तर पर जांचा गया । इस नीति को लेकर मिले व्यवहारिक अनुभव और जनता के फीड बैक के बाद आबकारी विभाग ने क्वांटिटी की इस बढ़ोत्तरी को वापिस ले लिया है । उन्होंने तंज़ कसते हुए कहा कि कांग्रेस ने तो अपनी सरकार में एक ब्रांड की मोनीपोली बनाकर तब तक अपनी अपनी जेबें भरी जब तक न्यायालय का इसे रोकने का आदेश नही आया । देश ने कैमरे पर देखा, किस तरह इनकी सरकारों की शराब नीति मुख्यमंत्री के सचिव माफियाओं के साथ बैठकर बनाते थे । आज प्रदेश को ड्रग्स के नशे से बाहर निकालने के लिए भाजपा सरकार निर्णायक कार्यवाही कर रही है उसे पनपाने का काम कांग्रेस की सरकार ने खुलकर किया ।
इसी तरह खनन नीति को लेकर लगाये आरोपों का जवाब देते हुए श्री चौहान ने कहा कि देवभूमि ने वो दौर भी देखा है जब पतित पावनी मां गंगा को कांग्रेस सरकार ने अपने आदेशों में नदी से नहर में तब्दील कर दिया था और ये सब खनन व्यवसाय में अवैध तरीके से पत्थर से सोना बनाने के लिए किया गया। इनकी सरकारों में बैखौफ खनन माफियाओं द्वारा प्रशासनिक अधिकारियों पर हमले होना आम बात थी । जनता को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार पर पूर्ण भरोसा है और राज्य और राज्यवासियों के विकास के लिए वह हर संभव प्रयास करेगी।