पीएम मोदी ने किए आदि कैलाश के दर्शन, पार्वती कुंड में की पूजा-अर्चना

0
234

पिथौरागढ़। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बृहस्पतिवार की सुबह हेलीकॉप्टर से आदि कैलाश पहुंचे। प्रधानमंत्री का बेस कैंप में सेना के अधिकारियों ने स्वागत किया। बेस कैंप से प्रधानमंत्री मोदी सड़क मार्ग से पार्वती सरोवर स्थित शिव मंदिर पहुंचे। यहां पर रंगा समाज के लोगो ने पीएम को पारंपरिक परिधान रंगा व्यंथला पहनाया। जहां से वह आदि कैलाश व्यू प्वाइंट पहुंचे और आदि कैलाश के दर्शन किए। इसके बाद उन्होंने पार्वती कुंड के दर्शन कर पूजा-अर्चना की।
पीएम मोदी का यह दौरा उत्तराखंड के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। साथ ही इस दौरे से चीन को सीधा मैसेज भी दिया जा रहा है। क्योंकि जिस तरह से लगातार चीन इस क्षेत्र में घुसपैठ के प्रयास करता रहा है साथ ही आदि कैलाश को लेकर भी अड़चनें लगाता है। पीएम मोदी के इस दौरे से चीन को यह संदेश देने का प्रयास है कि आदि कैलाश भारत की सनातन परंपरा का अहम हिस्सा है और भारत उसको लेकर बेहद गंभीर है।
इसके साथ ही पीएम मोदी के दौरे से क्षेत्र का विकास भी होगा, जिसके दोहरे लाभ होंगे। पहला यह है कि सेना को सीमा तक पहुंचने में आसानी रहेगी। दूसरा यह कि इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा साथ ही कैलाश व्यू प्लाइंट आने वालों की संख्या में भी इजाफा होगा।
पीएम मोदी ने आज सुबह पार्वती मंदिर के दर्शन किए। इस दौरान सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। पीएम मोदी ने कुछ देर वहा ध्यान भी लगाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जागेश्वर धाम का दौरा ऐतिहासिक माना जा रहा है। यह दौरा न सिर्फ धाम की प्रसिद्धी को और बढ़ाने में कारगर साबित होगा बल्कि अल्मोड़ा की परंपरागत ताम्र शिल्प कला को भी नई पहचान देगा। जिला प्रशासन और मंदिर समिति की ओर से पीएम मोदी को भेंट स्वरूप ताम्र प्रतिमा दी जाएगी। ताम्र प्रतिमा में जागेश्वर मंदिर के साथ शिवकृपार्वती की आकर्षक तस्वीर उकेरी गई है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह हेलीकॉप्टर से आदि कैलाश पहुंचे। प्रधानमंत्री का बेस कैंप में सेना के अधिकारियों ने स्वागत किया। बेस कैंप से प्रधानमंत्री मोदी सड़क मार्ग से पार्वती सरोवर स्थित शिव मंदिर पहुंचे। यहां पर रंगा समाज के लोगों ने पीएम को पारंपरिक परिधान रंगा व्यंथला पहनाया। जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिथौरागढ़ के पार्वती कुंड में पूजा-अर्चना की। इस दौरान उनके साथ मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और प्रशासन के आलाधिकारी मौजूद रहे।