अंतर्राज्यीय वाहन चोर गिरोह का खुलासा, पांच चोर गिरफ्तार तीन अन्य फरार, वाहन काटने वाले की भी तलाश , पुलिस ने एक सेंट्रो, ईको गाडी व एक मोबाइल फोन भी किया बरामद

0
632

शामली। शहर कोतवाली पुलिस, सर्विलांस एवं एसओजी की टीम ने अंतर्राज्यीय वाहन चोर गिरोह का भंडाफोड करते हुए क्षेत्र में हुई वाहन चोरी की घटनाओं में शामिल पांच शातिर चोरों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से चोरी की सेंट्रो, एक ईको कार व मोबाइल फोन भी बरामद किया है। चोरों का एक साथी आदर्श मंडी पुलिस पहले ही जेल भेज चुकी है जबकि अन्य की तलाश की जा रही है।

रविवार को सीओ अमरदीप मौर्य ने कोतवाली में आयोजित प्रेसवार्ता में बताया कि 24 जुलाई को मेरठ के दौराला क्षेत्र के गांव नंगली निवासी शुभम शर्मा पुत्र राजीव कुमार शर्मा ने अपनी ईको गाडी की चोरी के संबंध में कोतवाली पुलिस को तहरीर दी थी, इसके अलावा 4 सितम्बर को हरियाणा के हिसार के सैक्टर 14 स्थित मैसर्स धनीराम रामचंदर कंपनी के प्रतिनिधि भरत यादव द्वारा अपनी बुलेरो चोरी, 11 सितम्बर को मेरठ के श्रीराम कालोनी निवासी सुनील तोमर ने अपनी सेंट्रो गाडी के चोरी होने के संबंध में शहर कोतवाली में तहरीर दी थी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया था। एसएसपी ने वाहन चोरी की घटनाओं का खुलासा करने के लिए टीमों का गठन किया था। उन्होंने बताया कि बीती रात कोतवाली पुलिस, सर्विलांस एवं एसओजी की टीम ने चोरी की घटनाओं का खुलासा करते हुए अंतर्राज्यीय गिरोह के पांच शातिर चोरों को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में चोरों ने अपने नाम सचिन पुत्र मुकेश, सुमित पुत्र मुकेश निवासीगण मवी कलां थाना कोतवाली जनपद बागपत, दर्शनमान पुत्र धर्मवीर सिंह निवासी गांव खेडाखुर्द थाना नरेला दिल्ली, प्रवीण सब्बरवाल उर्फ पौना पुत्र दिलबाग सिंह निवासी रोशनगार्डन फेस 2 पुराना ककरौला रोड थाना नजफगढ दिल्ली व मनीष पुत्र कुलबीर सिंह गहलोत निवासी ककरौला रोड थाना नजफगढ दिल्ली बताए। सीओ ने बताया कि चोरों के तीन साथी अमित उर्फ आर्यन, दीपक, प्रदीप उर्फ लांडी व वाहन को काटने वाले सरदार मंदीप मौके से फरार हो गए जिनकी तलाश की जा रही है। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार चोरों का एक अन्य साथी सन्नी पुत्र महिपाल निवासी गांव तुगाना थाना छपरौली जनपद बागपत को आदर्श मंडी पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। वहीं पूछताछ में चोरों ने बताया कि वे व्हाट्सअप कॉल से लोगों से संपर्क करते थे तथा चोरी किया गया वाहन नंबर प्लेट बदलकर हमें बेच देते थे,इसके बाद वे उक्त वाहन को मुनाफा लेकर दीपक व प्रदीप को बेच देते थे जिसके बाद उसे मायापुरी निवासी सरदार मंदीप को बेच दिया जाता था जो वाहन को काट देता था। सीओ ने बताया कि चोरों के खिलाफ कार्रवाई प्रारंभ कर दी गयी है।

रिर्पोट : सिद्धार्थ भारद्वाज प्रभारी जनपद शामली उ०प्र०।