नमामि गंगे ट्रीटमेट प्लांट में करंट लगने से 16 की मौत, 10 घायल।

0
189

ट्रांसफार्मर में गड़बड़ी से फैला करंट!

गंभीर घायलों को एयर एंम्बुलेंस से पहुचाया गया एम्स ऋषिकेश!

सीएम ने दिए मजिस्ट्रियल जांच के आदेश!

चमोली 19 जुलाई । पीपलकोटी के मुख्य बाजार में बने नमामि गंगे प्रोजेक्ट से जुड़े सीवर ट्रीटमेंट प्लांट के ट्रांसफॉर्मर में गड़बड़ी के चलते अचानक पूरे प्लांट के आसपास करंट दौड़ने से मौके पर मौजूद 16 लोगों की करंट के चपेट से मौत हो गई। जबकि इस घटना में 10 लोग गंभीर रूप से झुलस गए। गंभीर रूप से झुलसे हुए लोगों को सीएम के आदेश पर हेली एंम्बुलेंस से एम्स ऋषिकेश पहुंचाया। घटना सुबह 11।35 की बताई जा रही है।
जानकारी के अनुसार पीपलकोटी अन्तर्गत चल रहे नमामि गंगे प्रोजेक्ट में सीवर ट्रीटमेंट प्लांट का काम चल रहा है। गत दिवस प्लांट का तीसरा फेज डाउन हो गया। प्रोजेक्ट की देखरेख कर रहा केयरटेकर कल रात से ही फोन न उठाए जाने के कारण उसके परिजनों ने उसकी खोजबीन की तो पता चला कि करंट लगने से उसकी मौत हो गयी। इस दौरान तीसरा फेज जोड़ा गया जिससे अचानक सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट परिसर में करंट फैल गया। जिससे मौके पर मौजूद चौकी प्रभारी प्रदीप रावत, 3 होमगार्ड समेत कुल 16 लोगो की मौत हो गयी व हादसे में 10 व्यक्ति घायल हो गये थे, जिसमें से गम्भीर रुप से घायल 6 व्यक्तियों को हायर सेन्टर ऋषिकेश एम्स रेफर किया गया है। अनुमान यह लगाया जा रहा है कि प्लांट के आसपास की रेलिंग में अचानक फैले करंट से सभी इसकी चपेट में आ गए। उन्होंने बताया कि घटना की कारणों की जांच की जा रही है।
वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों व स्थानीय लोगो की सहायता से हादसे में मृतकों व घायलों को प्लांट से बाहर निकाला गया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस घटना पर गहरा दुख जताते हुए मृतकों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए घटना में दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही का आश्वासन दिया है। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी चमोली को घटना की मजिस्ट्रियल जांच करवाने के आदेश दिए है। उन्होंने घायलो को हायर सेंटर रेफर करने के लिए हेलीकाप्टर उपलब्ध करवाने का आश्वासन दिया था। जिसके बाद मुख्यमंत्री जीटीसी हेलीपैड से घटनास्थल के लिए रवाना हुए व उन्होंने स्वयं घटनास्थल का जायज़ा लिया।