कांवड़ मेलाः 12 सुपर जोन, 33 जोन और 153 सेक्टर में बांटा मेला क्षेत्र

0
183

हरिद्वार। कांवड़ मेला विधिवत रूप से चार जुलाई से शुरू हो जाएगा। मेले में आसमान से लेकर जमीन तक कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रहेगी। मेला सकुशल संपन्न कराने के लिए पुलिस, पीएसी और अर्द्धसैनिक बल को नियुक्त किया गया है। एडीजी कानून एवं अपराध की ब्रीफिंग के बाद फोर्स मेला ड्यूटी पर रवाना हो गया। चप्पे-चप्पे पर फोर्स तैनात रहेगी।
ड्रोन से भी मेला क्षेत्र में निगरानी रखी जाएगी। मेला क्षेत्र को 12 सुपर जोन, 33 जोन और 153 सेक्टर में बांटा गया है। शनिवार को एडीजी अपराध एवं कानून व्यवस्था वी मुरुगेशन ने पुलिस लाइन रोशनाबाद स्थित बहुउद्देशीय भवन में कांवड़ मेले में नियुक्त अधिकारियों और कर्मचारियों (पुलिस बल) को ब्रीफ किया।
ब्रीफिंग के बाद फोर्स को ड्यूटी स्थल के लिए रवाना किया गया। एडीजी ने कहा कि कांवड़ यात्रा और वर्तमान में चल रही चारधाम यात्रा के दौरान उमड़ी भीड़ को देखते हुए एक चैलेंज के रूप में पूरे मनोयोग से यात्रा सकुशल संपन्न करानी है। किसी भी तरह की अफवाह को फैलने से तुरंत रोका जाए। दुर्घटना होने पर बिना समय गंवाए अपने अधिकारियों को सूचना देकर उनके पहुंचने तक व्यवस्थाओं को सुचारू करने के प्रयास किए जाएं।
आईजी रेंज करन सिंह नगन्याल ने कांवड़ मेले से जुड़े अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि आसपास की सभी घटनाओं को लेकर सर्तक रहें। यातायात प्लान को सुव्यवस्थित तरीके से लागू किया जाए। डीआईजी अभिसूचना एवं सुरक्षा डॉ. योगेंद्र सिंह रावत ने निर्देश देते हुए कहा कि मेले में बेहद सतर्कता के साथ अपनी ड्यूटी का निर्वहन करें। जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने कहा कि आपसी समन्वय और आवश्यकता अनुसार मीटिंग करें। इस दौरान एडीएम बीर सिंह बुधियान, एसपी क्राइम रेखा यादव, सीओ ऑपरेशन निहारिका सेमवाल, सीओ सिटी जूही मनराल, सीओ यातायात राकेश रावत आदि शामिल रहे।
एसएसपी अजय सिंह ने कहा कि कांवड़ यात्रा की लंबी और थकान भरी ड्यूटी के बीच भक्तिभाव को प्राथमिकता देते हुए आक्रोशित भावनाओं पर नियंत्रण आवश्यक है। छोटी घटनाएं कई बार बड़ा रूप ले लेती हैं इन्हें रोकने के लिए अपने अनुभव का सहारा लेने के साथ ही बिना किसी हिचक के अपने ऑफिसर से भी समस्या के निराकरण के लिए मदद मांगे। खास तौर पर पूरे कांवड़ मेले के दौरान सभी उच्च स्तर का धैर्य बनाकर ड्यूटी करें। कांवड़ में लगातार बारिश होने की संभावना है। बारिश के बीच भी व्यवस्थाओं को बनाए रखने के लिए अपने साथ डंडे, बरसाती व टॉर्च भी रखें। डिहाईड्रेशन से बचाकर रखने के लिए पानी से भरी बोतलें अपने पास रखें। वैकल्पिक तौर पर ओआरएस, नींबू का भी प्रयोग करें।
पूरे मेला क्षेत्र को 12 सुपर जोन, 33 जोन व 153 सेक्टर में बांटा गया है। सुपर जोन की जिम्मेदारी एएसपी स्तर के अधिकारी संभालेंगे। जोन की जिम्मेदारी सीओ एवं इंस्पेक्टर और सेक्टर की एसएचओ, एसओ और एसएसआई स्तर के अधिकारियों को सौंपी गई है। मेला क्षेत्र में बीडीएस, डॉग स्क्वायड की पांच टीम नियुक्त की गई हैं। आतंकी घटनाओं की रोकथाम के लिए एंटी टेरिस्ट स्क्वायड की दो टीमें मेला क्षेत्र में सक्रिय रहेंगी और हर संदिग्ध व्यक्ति अथवा परिस्थिति से निपटने के लिए पूरे समय तैयार रहेंगी। सीओ सिटी जूही मनराल को वेलफेयर अधिकारी नियुक्त किया गया है। वह कांवड़ मेले के दौरान कर्मचारियों के वेलफेयर और समस्याओं के समाधान के लिए भी कार्य करेंगी।