डेंगु व चिकनगुनिया प्रबन्धन पर दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

0
120

देहरादून। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण प्रशिक्षण केन्द्र चन्दनगर में डेंगुव चिकनगुनिया प्रबन्धन विषय पर 2 दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में प्रथम दिन जनपद के विभिन्न राजकीय चिकित्सालयों में कार्यरत चिकित्सा अधिकारियों द्वारा एवं दूसरे दिन जनपद के विभिन्न निजी चिकित्यालयों में कार्यरत चिकित्साधिकारियों द्वारा प्रतिभाग किया गया। कार्यशाला में अखिल आर्युविज्ञान संस्थान ऋषिकेश के प्रोफेसरों द्वारा डेंगु, चिकनगुनिया रोग से बचाव के सम्बन्ध में व्याखायान दिया गया।
डा0 संतोष कुमार एडिशनल प्रोफेसर कम्युनिटी एण्ड फेमली मेडिसिन एम्स ऋषिकेश ने सेवन प्लस वन माॅडल के बारे में बताया कि 07 दिनों तक बहुउद्देशीय टीम का गठन किया जाए जिसमे आशा कार्यकर्ती एएनएम एवं स्थनीय लोंगो को रखा जाए, इस टीम के माध्यम से मच्छरों के लार्वाजित क्षेत्रों को नष्ट किया जाए । डा0 मुकेश ऐसोसिएट प्रोफेसर इन्टरनल मेडिसिन एम्स ऋषिकेश ने डेंगुध्चिकनगुनिया मरीजों के उपरचार के बारे में जानकारी ही, उन्होंने बताया कि डंेगु शाॅक सिन्ड्रोम या डेंगु हैमरेजिक बुखार का उपचार सावधानीपूर्वक किया जाए, उचित समय पर रेफरल का ध्यान रखा जाए, यदि डेंगु बुखार के तीसरे दिन ब्लड प्रेशर एवं प्लेटलेट्स डाउन हो तो मरीज को तुरंत अस्पताल में भर्ती कर त्वरित उपचार की व्यवस्था की जाए।
डा0 आशीष जैन ऐसोसिएट प्रोफेसर ब्लड बैंक एम्स ऋषिकेश न बताया गया डंेगु चिकनगुनिया में रक्त की जाचों का बहुत महत्व है, लैब की मशीनो ंएवं तकनीक का उचित होना एवं एलाईजा जांच की अति आवश्यकता है साथ ही लैब में कार्यरत स्टाॅफ का प्रशिक्षण होना भी अति आवश्यक है। मरीजों को प्लेटलेट्स की आवश्यकता पडने पर ही प्लेटलेट्स चढाने तथा जम्बो पैक प्लेटलेट्स के बारे में जनसामान्य को जागरूक किया जाए। सभी मरीजों को प्लेटलेट्स की आवश्यकता नहीं होती है, इसलिए किसी को धबराने की आवश्यकता नही है।