पति ने ही दोस्त को दी थी पत्नी को मारने की सुपारी

0
140

पत्नी से पीछा छुड़ाने के लिए उठाया प्राणघातक कदम, तीन गिरफ्तार

काशीपुर। अपनी ही पत्नी से पीछा छुड़ाने के लिए पति ने दोस्त संग साजिश रचकर पांच लाख रूपए में अपनी पत्नी की हत्या का सौदा कर डाला। पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए पति समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपियों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया।

ग्राम प्रतापपुर निवासी सलविन्दर सिंह ने कुंडा थाना पुलिस को तहरीर देकर बताया था कि उसकी पुत्री कुलविंदर कौर का पति उसे प्रताड़ित करता है जिसके बाद उसकी पुत्री ने जसपुर थाने में उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। मंगलवार को एसपी कार्यालय में घटना का खुलासा करते हुए एसएसपी डा. मंजूनाथ टीसी ने बताया कि घटना के खुलासे के लिए पुलिस टीमों ने सीसीटीवी कैमरो को चैक किया तथा वाहन संख्या यूके06एन-1555 की ओर से घटना को कारित करना पाया गया। पुलिस की ओर से कार की डिटेल निकाली गई तो कार थाना अफजलगढ़ के रफैतपुर सुआवाला निवासी रिहासत पर दर्ज मिली। वाहन स्वामी से पूछताछ मे जानकारी हुई कि उसने कार को दो माह पूर्व थाना रहेड़ के ग्राम उदयपुर निवासी खेम सिंह चौहान को दो माह पूर्व बेच दी है। पुलिस ने खेम सिंह को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो उसने स्कूटी सवार महिला को जान से मारने की नियत से पीछे से टक्कर मारना स्वीकार किया। उसने बताया कि जसपुर के लक्ष्मीनगर निवासी उसके ममेरे भाई महिपाल सिंह ने उसे महिला को मारने के लिए तीन लाख रुपए में सौदा किया था तथा उसे एक लाख रुपये एडवांस में उसे दिए थे। जिसके बाद उसने 80 हजार और मिलाकर कार को खरीदा। पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि  3 मार्च को महिला हेल्प लाईन में काउंसलिंग के बाद कुलवनिंदर कौर अपनी स्कूटी से वापस अपने घर पतरामपुर जसपुर जाने के लिए चली। खेम सिंह चौहान ने शिवराजपुर पट्टी चौकी पार करने के पश्चात चौकी से लगभग 200 मीटर आगे जसपुर की तरफ पहुंचने पर अपनी स्कॉर्पियों कार से स्कूटी सवार महिला के स्कूटी के पीछे जान से मारने की नियत से काफी तेजी से जोरदार टक्कर मार दी। पुलिस ने आरोपी जसपाल सिंह व महिपाल सिंह को मुरादाबाद रोड स्थित केवीआर हॉस्पिटल के पास से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस टीम में कुंडा थानाध्यक्ष दिनेश सिंह फर्त्याल, एसआई मनोहर चन्द, कैलाश देव, भूमिका पांडे, एसओजी प्रभारी ललित बिष्ट, विनय कुमार, कां. नरेश चौहान, एसओजी कां. कैलाश तोमक्याल, राजेश भट्ट, दीवान बोरा रहे।