मां कुष्मांडा की पूजा की गई श्री अभय मठ में।

0
185

 

देहरादून 29 सितंबर।आज नवरात्रे के चतुर्थ स्वरूप मां कुष्मांडा का पूजन किया गया,आज की देवी का मंत्र है।
*या देवी सर्वभूतेषु तुष्टि रूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम*
श्रीअभय मठ लक्ष्मण चौक में परम पूज्य महंत 108 श्री रविंद्र पुरी जी महाराज के सानिध्य में दिगंबर राजेश पुरी जी महाराज बहुत भव्य तरीके से नवरात्रे का आयोजन कर रहे हैं,आज प्रातः काल में माता का अभिषेक,पूजन और दुर्गा सप्तशती का का पाठ करते हुए दिगंबर राजेश पुरी ने देवी कुष्मांडा की शोभा का वर्णन किया उन्होंने बताया कि,इनकी आभा और कांति सूर्य के समान है,सृष्टि का निर्माण देवी के कुष्मांडा स्वरूप ने ही किया है यह मां का अन्नपूर्णा रूप भी है,माता ने शकुंभरी रूप धर कर धरती पर शाक से पल्लवित कर दिया एवम शताक्षी रूप में असुरों का नाश किया,ये प्रकृति की देवी है इनकी पूजा के बिना देवी पूजा सम्पूर्ण नही मानी जाती, इस अवसर पर क्षेत्र के अनेक श्रद्धालु उपस्थित हो कर पूजा और प्रवचन का लाभ ले रहे है ।मठ में विराजमान श्री शंक्रेश्वर महादेव जी का भव्य संध्या श्रृंगार किया गया।
संध्याकालीन सांस्कृतिक कार्यक्रमों में प्रतिदिन माता की चौकी का आयोजन किया जा रहा है जिसमें अलग अलग भजन गायक मंडली माता का गुणगान कर रहे हैं,भजन संध्या का सीधा प्रसारण क्षेत्र में लाइव एलईडी स्क्रीन पर किया जा रहा है। आज भजन संध्या में विकासनगर के प्रसिद्ध निपुण सारण एवम ग्रुप ने अपनी मधुर वाणी से माता की सुंदर भेंटे सुना कर सभी श्रद्धालुओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। ।अनेक प्रसिद्ध भजन पर भक्ति में श्रद्धालुओं को नीरत करने पर मजबूर कर दिया।
रात्रि ग्यारह बजे तक यह कार्यक्रम चलता रहा।
उसके पश्चात मईया के नवरात्रे गाए गए। उपवास वाले श्रद्धालुओं के लिए अन्न रहित प्रसाद की वयवस्था महिला मंडल द्वारा की गई थी
इस अवसर पर महिला मंडल की अध्यक्ष रीना मेंदीरत्ता शशि शर्मा,महामंत्री प्रशांत शर्मा,मीडिया प्रभारी गोपाल सिंघल,विनय गोयल,अनिल मित्तल,गिरधर शर्मा सहित सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालुओं की उपस्तिथि रही।
कल भरत सहारनपुरिया अपनी मधुर वाणी से माता का गुणगान करेंगे।