व्यवहार में नम्रता होना मार्दव है: समर्पण सागर

0
135

देहरादून 01सितंबर । जैन धर्म में सबसे अधिक माने जाने वाले धार्मिक पर्व 10 धर्म के पूजन का आज दूसरे दिन उत्तम मार्दव धर्म का पालन किया गया सभी जैन मंदिरों में प्रातः श्री जिनेंद्र भगवान का अभिषेक शांति धारा नित्य नियम पूजन किया गया श्री महावीर दिगंबर जैन मंदिर जैन धर्मशाला में विराजमान क्षुल्लक श्री समर्पण सागर जी महाराज ने उत्तम मार्दव धर्म की व्याख्या करते हुए कहा कि मनुष्य को अहंकार नहीं करना चाहिए, अहंकार के नाश करने को ही उत्तम मार्दव कहा जाता है,मानव को अपना व्यवहार सदेव सरल और नम्र रखना चाहिए,क्रोध पर नियंत्रण रखना ही मार्दव धर्म है। इसी क्रम में दिगंबर जैन पंचायती मंदिर माजरा में इस पर्व के अवसर पर दस लक्षण महामंडल विधान का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें अहमदाबाद से पधारे विद्वान पंडित श्री महेंद्र जैन ने भी अपने अनुसार जैन धर्म में मार्दव धर्म के महत्त्व को बताया उन्होंने बताया कि जीवन में मनुष्य यदि अपने मन और मान कषाय पर काबू पा ले तो जीवन में बहुत सी समस्याएं स्वत ही समाप्त हो जाती हैं। इसी क्रम में मंदिर जी में अनेक श्रद्धालुओं ने श्री जी का अभिषेक एवं शांति धारा और पूजन किया सांध्य कालीन सांस्कृतिक कार्यक्रमों में श्री आदिश जैन संयोजक के द्वारा भजन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें अनेक श्रद्धालुओं ने अपने भजन सुना कर सभी को भाव विभोर कर दिया,सभी को पुरुस्कार दिया गया एवं मेरठ से पधारे संगीतकार अमित ने भी अपनी मधुर ध्वनि से अनेक सुंदर भजन प्रस्तुत किए और लोगों को नीरत करने के लिए बाध्य कर दिया। श्री पार्श्व नाथ दिगम्बर जैन मंदिर सोसाइटी एरिया क्लीमेंटटाउन में भी प्रात श्री जी का अभिषेक शांति धारा की गई। जैन धर्मशाला में संध्याकालीन कार्यक्रमों में आज दिगंबर जैन महासमिति महिला इकाई के तत्वाधान में धार्मिक फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता का आयोजन किया जिसमें समाज के बच्चों ने अनेक रुप में आकर सभी का मन मोह लिया छोटे-छोटे बच्चे आर्यिका, साधु राजा,आदि के वेशभूषा में मंच पर आएं और अपने अपने तरीके से लोगों को अपनी कला से प्रभावित किया। इस अवसर पर जैन धर्मशाला के अध्यक्ष सुनील जैन, महामंत्री संदीप जैन, उत्सव समिति के संयोजक आशीष जैन, अर्जुन जैन, अमित जैन सुकुमार जैन संजय जैन पूनम जैन,रेखा जैन,प्रमोद जैन प्रतीक जैन दिनेश जैन,प्रवीन जैन,संजय जैन, गोपाल सिंघल,मधु जैन, मीता जैन, सहित अनेक गणमान्य और श्रद्धालु उपस्थित रहे।